GSPG College
GSPG Thought ⇒ आ नो भद्राः क्रतवो यन्तु विश्वतः   ||   हमारी तरफ़ सब ओर से शुभ विचार आएँ   ||  LET NOBLE THOUGHT COME TO US FROM EVERY SIDE....RIGVEDA.                     आ नो भद्राः क्रतवो यन्तु विश्वतः   ||   हमारी तरफ़ सब ओर से शुभ विचार आएँ   ||  LET NOBLE THOUGHT COME TO US FROM EVERY SIDE....RIGVEDA.
बी०ए०/ बी०एस-सी०/बी०कॉम० एवं एम०ए०/एम०एस-सी०/एम०कॉम० प्रायोगिक परीक्षा कार्यक्रम 2015   
Chairman Message
आज का युग वैश्वीकरण का युग है| अन्तर्राष्ट्रीय परिदृश्य पर भारत की अस्मिता बनाने के लिए, भारतीय संस्कृति का ज्ञान प्राप्त करना और उसके शाश्वत मूल्यों को जीवन में ग्रहण करना प्रत्येक भारतीय का पावन कर्तव्य है| किसी राष्ट्र की सांस्कृतिक चेतना का उद्गम शिक्षण संस्थाएँ होती है भारतीय संस्कृति की गुरुकुल परंपरा इसका जीवंत प्रमाण है। इसी परम्परा का एक अंग यह महाविद्यालय है, जहाँ पिछले पांच दशकों से इतिहास, साहित्य, संगीत, कला, और विज्ञान की समन्वित धारा प्रवाहमान है। इस धारा के ज्ञानजल से लाखों ज्ञानपिपासुओं ने अपनी प्यास बुझाकर राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान किया है। आशा करता हूँ कि महाविद्यालय आत्मशक्ति, नैतिकताबोध और सदाचरण की अपनी अक्षुण्ण परंपरा बनाये रखेगा।
                                   शुभकामना सहित .......

श्री आत्माराम मुरारका      
(अध्यक्ष)